दुआ उनके लिये बद्दुआ न बने

दुआ उनके लिये बद्दुआ न बने
मेरी मोहब्बत कहीं मुद्दा न बने

हो सके तो आप संभलकर चलिये
हम उनकी मोहब्बत में क्या-क्या न बने

बेहतर है आदमी, आदमी ही रहे
कोई भूल से भी मसीहा न बने

मुश्किल है अगर वो दिल में उतर गये
निकलने का फिर कोई रास्ता न बने

Leave a Reply