जैसे हवा का एक झोंका है

जैसे हवा का एक झोंका है
ये ज़िन्दगी, अदभुत है, अनोखा है

रेत पे लिख दो नाम, किसने
लहरों को मिटाने से रोका है

फूल खिलते हैं, महकते हैं, मिट जाते हैं
यही सच है, बाकी सब धोखा है

Leave a Reply