वो मेरा ख्वाब तोड़कर चले गये

वो मेरा ख्वाब तोड़कर चले गये
मेरी मिट्टी कोड़कर चले गये

तरकश के सारे-के-सारे तीर
मेरे दिल में छोड़कर चले गये

मैं वहीं का वहीं खड़ा रहा
वो रास्ता मोड़कर चले गये

कोई नया ख्वाब देखा होगा
नाता उससे जोड़कर चले गये

Leave a Reply