सारी दुनिया को ठुकरा के देखा

सारी दुनिया को ठुकरा के देखा
वो क्या चीज़ है, दिल लगा के देखा

दिल से रिश्तों की शुरुआत होती है
एक अज़नबी को अपना बना के देखा

वो उतरे थे ज़मीं पे मसीहा बनके
उनकी ताकत, उनकी वफा में देखा

जो कहते थे, करते थे बेशक, यारों
हमने भी उनको आज़मा के देखा

एक सितारा जो टूटा अँधेरे में
उसकी चमक को सारे जहाँ ने देखा

Leave a Reply