इश्क़ हो जाता है, किया जाता नहीं

इश्क़ हो जाता है, किया जाता नहीं
दिल हर किसी को दिया जाता नहीं

मैं सबसे कहता हूँ संभल के रहिये
और अपने लिये कुछ किया जाता नहीं

फिजायें दूर से ही अच्छी लगती हैं
सागर होंठों से पीया जाता नहीं

उसकी बाबत किसी से क्या कहूँ
वो चश्मे-आदम से देखा जाता नहीं

लोग इश्क़ करते हैं और जी लेते हैं
हमसे तो इश्क़ में जिया जाता नहीं

Leave a Reply