जिंदगी

लहरों पर डोलती नाव है जिंदगी

खिवैइये की पतवार,

किनारे पर पहुचने की तमन्ना है जिंदगी !

आशा की किरण,

जलते हुए दीए की लौ है जिंदगी !

कभी खुशी कभी गम,

कभी ज्यादा कभी कम है जिंदगी !

हमदम है कभी,

तो कभी बेवफा है जिंदगी !

ख्वाबों का समंदर,

तो कभी हकीकत का अहसास है जिंदगी !

मिलने की तड़प,

तो कभी खोने की चुभन है जिंदगी !

मासूम सी मगर,

दगाबाज है जिंदगी

Leave a Reply