नज़रिया देख-देख हँसे

रामनाम की रट है कोई
और न हृदय बसे
नज़रिया देख-देख हँसे

अंतकाल में निकलेगा जप
रामनाम मुख से
रामरस पी, हो जायेगा
छुटकारा दुःख से
नज़रिया देख-देख हँसे

उसपार करो जीवन-नइया
अब न प्राण फंसे
रामनाम की रट है कोई
और न हृदय बसे
नज़रिया देख-देख हँसे

Leave a Reply