चलो, अच्छा है ये अच्छा ही हुआ

चलो, अच्छा है ये अच्छा ही हुआ
आना-जाना तो है लगा ही हुआ

हम अक्सर उससे खफ़ा रहते थे
उसके हाथों सबका भला ही हुआ

मंजिल तक पहुँचने की फिक्र न थी
चलता चला गया, हँसता ही हुआ

अब, उसके नक़्शे-कदम पे चलते हैं
उसकी मौत आख़िर मुद्दा ही हुआ

जीते-जी किसी ने एक न सुनी
रह गया सत्य का मुँह ढका ही हुआ

Leave a Reply