गीत जीवन की एक किताब है

गीत जीवन की एक किताब है

हर कोई देख रहा ख्वाब है

कागज का शहर बन गया सफेद हाथी

बस दो कदम और बीते पल की बात है

खेल जिंदगी का खेल, राहें अलग मंजिल एक है

सुर, ताल, झंकार प्यार की पहचान है

कल की रोशनी के लिए आज थोड़ा सा अंधेरा

झांकता है झरोखों से कुछ बातों कुछ यादों सा

ये जिंदगी के मेले दुनिया में कम ना होंगे

जब बत्ती गुल हो जाएगी तब हम ना होंगे

Leave a Reply