ज़ख्म को फ़ूल तो सर-सर को सबा कहते हैं / फ़राज़

ज़ख्म को फ़ूल तो सर-सर को सबा कहते हैं
जाने क्या दर्द है, क्या लोभ है, क्या कहते हैं
क्या कयामत है कि जिनके लिये रुक रुक के चले
अब वही लोग हमें आबला-पा कहते हैं
कोई बतलाओ कि इक उम्र का बिछुडा महबूब
इत्तेफ़ाकन कहीं मिल जाये तो क्या कहते हैं
ये भी अन्दाज़े सुखन है कि खता को तेरी
ग़मज़-ओ-इश्वः-ओ-अन्दाज-ओ-अदा कहते हैं
जब तलक दूर है तू तेरी परस्तिश कर लें
हम जिसे छू ना सकें, उसको खुदा कहते हैं
क्या त़अज्जुब है कि हम अहले-तमऩ्ना को फ़राज़
वो जो महरूम-ए-तमऩ्ना हैं बुरा कहते हैं

Leave a Reply