तमन्ना

खुश नसीब हैं वो

तमन्ना जिनकी लोग किया करते हैं

हम तो उनकी यादों में जिया करते हैं

बिखरे मोती चुन लिए जाते है

नयनों से नीर नही यूं ही बहा करते हैं

वो याद करें हमको

नही ये आरजू हमारी

हम तो सिर्फ उनको यादों में जिया करते हैं

यादों को समेटे पलकें जब नम हुआ करती है

वादों का जाम पिया करते हैं

3 Comments

  1. Yashodadigvijay4 04/07/2012
  2. Okedia 07/07/2012

Leave a Reply