गनीम से भी अदावत में हद नहीं माँगी / फ़राज़

गनीम से भी अदावत में हद नहीं माँगी
कि हार मान ली, लेकिन मदद नहीं माँगी

हजार शुक्र कि हम अहले-हर्फ़-जिन्दा ने
मुजाविराने-अदब से सनद नहीं माँगी

बहुत है लम्हा-ए-मौजूद का शरफ़ भी मुझे
सो अपने फ़न से बकाये-अबद नहीं माँगी

क़बूल वो जिसे करता वो इल्तिजा नहीं की
दुआ जो वो न करे मुस्तरद, नहीं माँगी

मैं अपने जाम-ए-सद-चाक से बहुत खुश हूँ
कभी अबा-ओ-क़बा-ए-ख़िरद नहीं माँगी

शहीद जिस्म सलामत उठाये जाते हैं
तभी तो गोरकनों से लहद नहीं माँगी

मैं सर-बरहना रहा फिर भी सर कशीदा रहा
कभी कुलाह से तौक़ीद-ए- सर नहीं माँगी

अता-ए-दर्द में वो भी नहीं था दिल का ग़रीब
`फ़राज’ मैंने भी बख़्शिश में हद नहीं माँगी

Leave a Reply