एक ग़रीब का अकेलापन / असद ज़ैदी

एक ग़रीब का अकेलापन
उसके ख़ाली पेट के सिवा कुछ नहीं
अपनी दार्शनिक चिन्ता में
दुहराता हूँ मैं यही एक बात

Leave a Reply