समय क्षण-भर थमा

समय क्षण-भर थमा सा:
फिर तोल डैने
उड़ गया पंछी क्षितिज की ओर:
मद्धिम लालिमा ढरकी अलक्षित।
तिरोहित हो चली ही थी कि सहसा
फूट तारे ने कहा: रे समय,

तू क्या थक गया?

रात का संगीत फिर
तिरने लगा आकाश में।

Leave a Reply