खोज

खोज जारी है

गुजरे हुए वक्त के

उन सवालों की

जो अनछुए अनकहे रह गए

प्रतीक्षा है सुख की

दुख में खोज जारी है

पहुँच कर भी न पहुँची

मिलकर भी न मिली

वक्त की किताब में

ख्वाहिशें अधूरी है

फट गए जो पन्ने उनकी खोज जारी है

रूक गई जो सांसें

कभी ना आने के लिए

पर चलते रहे लोग

भीगी आँखों से खोज जारी है

3 Comments

  1. Deepankar sethi Deepankar sethi 25/06/2012
  2. Janak 25/06/2012
    • PRAGYA SRIVASTAVA 03/07/2012

Leave a Reply