सबसे विश्वसनीय खबर

हिल रही है
धूप में जो शाख़
चिडि़यों के लिए
फरवरी की हवा में
वही है
विश्वसनीय ख़बर
दुनिया नष्ट नहीं होगी
किसी अख़बार से

पड़ी है घास पर
अकेली आरामकुर्सी
जिस पर धूप में
बैठूँगा
अख़बार ले कर

और
अख़बार नहीं
हवा में चिडियों के लिए
हिलती उस अकेली
ख़बर की वजह से
बैठा रह सकूँगा।

Leave a Reply