छुटकी

१. छुटकी मुट्की घुटकी
नटखट अलबेली छैलछबीली
प्यारी सी लागे उसकी अठखेली

२. गिलहरी मानो उसकी सहेली
नाच नचईया, धिक् ता तईया
हर कोने में उसकी छईयाँ

३. सुर सरस्वती उसके कंठ विराजे
चूँ चूँ करती चिड़िया लागे
सबके मन को भयो अतिभावे

४. चैं चैं – चैं चैं जब वो चिल्लाये
धरा नभ, सब एक हो आये
सब दौड़ें उसे मनाये

५. दुदद्ल बेल का मुँह चिढ़ाये
धरा पर लेटे जब गुस्सा दिखाये
देख उसे तो, कृष्ण डर जाये

६. छुटकी मुट्की घुटकी
नटखट अलबेली छैलछबीली
मन भाये उसकी अठखेली

One Response

  1. शम्मी शर्मा शम्मी शर्मा 23/06/2012

Leave a Reply