माँ

माँ मॆरी है

सब सॆ सुंदर

फूल सरीखी माँ

श्रद्धा त्याग

तपस्या की

मूरत मॆरी माँ

बाधाओं सॆ

कभी ना हारॆ

ऐसी मॆरी माँ

चंदन और

कुमकुम सी पावन

लगती मेरी माँ

पूजा की

घंटी सी बजती

हरदम मॆरी माँ

गीता वॆद पुराणों

में भी मिलती

मेरी माँ

Leave a Reply