हँसती हुई इक्यासी हजार लड़कियाँ

थोड़ा अटपटा है इस कविता का शीर्षक

आपको यह लग़भग अविश्वसनीय लग सकता है

और अतिरंजित भी

हो सकता है, सही हो आपका ख़याल।

भारत में लड़कियों की सही संख्या के आँकड़े

जनसंख्या की पुस्तकों में होंगे

पर मेरे मन में एक चित्र है

लड़कियों के इक्यासी हज़ार खिले हुए चेहरों का

फिलहाल मैं उसी को लेकर आपसे मुखा़तिब हूँ

नहीं जानता यह संख्या मेरे दिमाग़ में कहाँ से आयी?

संख्या भी ऐसी कि अच्छे-अच्छे

सांख्यिकी-विशारदों का चकराने लगे भेजा भी

पूरी इक्यासी हज़ार

न ज़्यादा, न कम

हाँ, मैं आपको इस तस्वीर का

कोई रूमानी पहलू नहीं दिखाना चाहता

इसलिए कदाचित् यह बतलाना भी ज़रूरी नहीं

कि वे नाज़ुक, सुन्दर और सनसनीखेज हैं, या साधारण

उनकी आंखें आपको ‘उर्दू शायरी’ में क्या क्या याद दिलाती हैं

वे जब इठलाती हैं तो देखने वालों के दिल पर

कैसे-कैसे साँप लोट जाते हैं वग़ैरह-वग़ैरह

हाँ, कविता के अन्त तक आते-आते आपको

पछताना पड़ जाये तो

कृपया आप मुझे दोष न दें

यह कवि का ही विशेषाधिकार है कि

वह आपको स्वप्न और

यथार्थ के बीच झुलाता है-लगातार

तो मैं कह रहा था, वे क्यों हँस रही हैं ?

हो सकता है वे चाशनी जैसे किसी मीठे ख़याल पर खुश हों

युवावस्था के किसी पहले चुम्बन से

किसी ऐसी भविष्यवाणी से कि

उनके भावी पति छिड़कते रहेंगे उन पर जान

सारी इक्यासी हज़ार सौभाग्यकांक्षिणियों के

मन में ख़याल हो कि सुसंस्कारित, सुन्दर, सुडौल और लगातार प्रेम करने वाले बाँके नौजवान ही उनके पति होंगे

तो भी वे मुस्कुरा सकती हैं

ख़ुशी से फूट पड़ते समय लड़कियों को इस बात की परवाह नहीं होती कि

सच नहीं होती जीवन में बहुत-सी बातें

अधूरे रह जाते हैं-हमारे अधिकांश सपने

पर उन्हें प्रसन्नचित्त देख कर तो ऐसा नहीं लग रहा

अगर लड़कियाँ अपने-आपको घूरे जाने का अर्थ समझती हैं

अगर वे जानती हैं किस तरह आकर्षित किया जाये राह चलते लोगों का ध्यान

अगर उन्हें नये फ़ैशन और डिजाइन की पोशाकों में दिलचस्पी होती है

और दर्जी से लाते ही वे हो आना चाहती हैं, उन्हें पहन कर घर से बाहर

अगर उन्हें आता है, बाल काढ़ने का सलीक़ा,

अगर वे रेखागणित में फेल होते हुए भी ‘कोणों’ के बारे में

बेहतरीन समझ रखती हैं,

अगर वे सारा ख़ाली वक़्त शीशे के सामने बिता कर होती रहती हैं आत्ममुग्ध

अगर वे आस-पड़ोस की अन्य सुन्दर लड़कियों से

अपनी तुलना मन ही मन करती नहीं अघातीं

तो घरेलू कामकाज में हाथ बँटाते हुए भी

वे असुन्दर नहीं दिखतीं।

अक्सर रसोईघर की जिम्मेदारियाँ बना डालती हैं उन्हें दुबला और फुर्तीला

ज़रूरत पड़ने पर वे दस-बारह अप्रत्याशित मेहमानों को

चाय के साथ आलू के चिप्स

तुरन्त तल कर खिला देने की योग्यता भी रखती हैं

धो सकती है वे ढेरों कपड़े

रोते बच्चों को चुप करा सकती हैं

घर की सफ़ाई के लिए उन पर

पूरा इतमीनान किया जा सकता है

हिसाब-किताब रखने में भी वे लापरवाह नहीं होतीं

आले अलमारियों और बुखारी में रखी हुई

पुरानी से पुरानी चीज़ की याद उन्हें रहती है

वे सबसे अन्त में भोजन करें तो भी

उनकी सेहत पर कोई असर नहीं पड़ता

खेलों और राजनीति की तुलना में

उनकी दिलचस्पी फि़ल्मों और गोलगप्पों में ज़्यादा होती हैं

और सबसे महत्त्वपूर्ण बात तो यह है कि उन्हें

अपने जीवन का अधिकांश हिस्सा

लगभग तीन-चैथाई

एक ऐसे परिवार की सदस्य या

सेविका के रूप में बिताना होता है

जिससे उनका पूर्व-परिचय

लगभग बिलकुल ही नहीं होता

लड़कियों के जीवन में

बहुत कम होते हैं हँसने के अवसर

वे फूट-फूट कर रो सकती हैं

अत्यधिक आसानी से

यहऐसा अभ्यास है एक जो

उनके जीवन में बहुत काम आता है

क्रोध और प्रेम तो उनकी नाक पर धरा रहता है

वे इसकी अभिव्यक्ति के लिए उपयुक्त अवसर नहीं देखतीं

मैं घर से भागी हुई लड़कियों की फेहरिश्त

आपको दे सकता हूं जो किसी भी ‘ऐरे-गैरे’ के प्रेम में

सत्रह साल पुराने अपने घर को तिलांजलि दे कर

किसी और का घर बसाने चली गयीं

ऐसी लड़कियाँ बेशक पिता के घर लौटती हैं

पर कुछ वक़्त बाद जब समय का अन्तराल

सारे घाव भर देता है

और उनकी जाति-बिरादरी के सामने

नाक कटा चुकी माँएँ

प्यार से अपने काले-कलूटे नाती को

चूमती नहीं थकतीं

तो दोस्तो, कुछ देर के लिए

उन लड़कियों को हँसता हुआ छोड़ कर

कहीं और चलें उन्हें हँसने दें

किसे पता

हँसते-हँसते

किस क्षण

निकल पड़ें

उनके आँसू

Leave a Reply