रहूँगा

रहूँगा ही मैं

रहूँगा

व्यस्त पृथ्वी के धीरज और

आकाश की भारहीनता में

खनिज की विलक्षणता

पानी की तरलता

आग की गर्मी और

नदियों निरीहता में

पशुओं की पवित्रता और

दिशाओं की दयालुता में

रहूँगा ही मैं

एक शब्द की

अजरता अमरता में

Leave a Reply