तेरा ही जी न चाहे

वो  तो  हमारे  दिल  का   सुकूनो   क़रार  हैं

हर इक अदा पे उनकी  दिलो जां  निसार  हैं
                     यूँ तो तेरे इंकार की कोई वजह नहीं
                     तेरा ही जी न  चाहे तो बातें हज़ार हैं
मालूम था के जायेगा इक दिन वो छोड़ कर
आँखें  हमारी  किस  लिए फिर अश्क़बार हैं
                    लिख लिख के मेरा नाम मिटाते हैं बारहा
                    लगता  हे  वो  भी  मेरे  लिए  बेकरार हैं
मुमकिन नहीं के ख़ाब में आ जाये तू सनम
मुद्दत  से   मेरी  आँखों   से   नींदें   फ़रार  हैं
                   हसरत है मेरे दिल में तुझे पाने की सनम
                   अरमान  मेरे  दिल  में  सनम  बेशुमार हैं

Leave a Reply