जग की दुश्मन बनी गरीबी

जग की दुश्मन बनी गरीबी,लालच बना है सबका दोस्त
नाश किया है अनपढ़ता ने,पकड रही लाचारी जोर

हिम्मत कर आगे बढ़ जाना,हमें अपनी मंजिल पाना है
कठिन परिश्रम और मेहनत से,खुद की तक़दीर सजाना है

मन्द पड़ गई ज्ञान की धारा,क्षिण-२ कर मनन भी हारा
संकल्प रहे संकल्प हमारा,जन-जन पढ़े भारत का सारा

One Response

  1. Deep12 18/06/2012

Leave a Reply