पितृ दिवस पर विशेष

आर.सी. शर्मा “आरसी” “दीप-शिखा” विद्या विहार, कोटा जं०-324002 जी की सुंदर रचना आनंद लें.

पितृ दिवस पर विशेष—

रहे सदा जीवनभर जग में, तुम मेरी पहचान पिता,
कहाँ चुका पातीं जीवनभर,इस ऋण को संतान पिता ।

चले तुम्हारी अंगुली थामे , हम पथरीली राहों पर,
बिना तुम्हारे वो सब रस्ते,रह जाते अनजान पिता ।

मेरे तुतलाते बोलों ने अर्थ तुम्हीं से पाया था,
मेरी बीमारी में अक्सर बन जाते लुकमान पिता ।

गुरु ,जनक, पालक,पोषक,रक्षक तुम भाग्यविधाता भी,
मोल तुम्हारा जान न पाए , हम ऐसे नादान पिता ।

अपनी, आँखों के तारों का, आसमान थे सचमुच तुम
सौ जन्मों तक नहीं चुकेगा, हमसे यह एहसान पिता ।

तुम माँ के माथे की बिंदिया, और हमारा संबल थे,
बिना तुम्हारे माँ के संग हम, रो-रो कर हलकान पिता ।

जिनके कंधे चढ़ कर हम नें जग के मेले देखे थे,
अपने कांधे तुम्हें चढ़ा कर, छोड़ आये शमशान पिता ।

One Response

  1. bholanathshukla BN Shukla 17/06/2012

Leave a Reply