हमें, इजाजत नहीं है !!!

हाल-ए-दिल अपना, सुनाने की इजाजत नहीं है.

हमें दुःख अपना, बताने की इजाजत नहीं है..

उन्हें फुरसत नहीं है, हमपर सितम करने से.

और हमें, छटपटाने की भी इजाजत नहीं है..

वो हमें लूटें, कि मारें, या चाहे कत्ल कर दें.

सर हमें अपना उठाने की इजाजत नहीं है..

अधिकार बोलने का सुरक्षित है, अब तो संसद में.

आवाम को तो खुसफुसाने की भी इजाजत नहीं है..

फुरकत में वो आज इतना है कि, मिलने को आता नहीं.

और हमको उसके पास, जाने की भी इजाजत नहीं है..

वो मजाक कर रहे हैं, देश के भविष्य से और.

कार्टून भी हमें उनका, बनाने की इजाजत नहीं है..

Leave a Reply