झूंठ की जमात जुरी पाप अधिकारी जहाँ

झूंठ की जमात जुरी पाप अधिकारी जहाँ,

                            महन्त  है  पाखंड  चन्द  टोली घुरावे हैं |
कपट की विभूति  लोगन को बांटि-बांटि,
                          अकड़-अकड़ बैठे चतुर सभा में कहावें  हैं |
क्रोधिन की कमाना को सफल करत व्यभिचारी,
                          असंगत उटपटांग काम अपना  बनावे है |
कहता शिवदीन कलिकाल  में प्रपंच फैल्यो,
                         ऐसे  जो  असंत  महन्त  मोजां  उड़ावें  हैं |


Leave a Reply