केते झाड़ फूंक भुतवा पुजयाबे को

केते  झाड़  फूंक  भुतवा  पुजयाबे  को, 
                             इधर उधर ताक- ताक बात बहु  बनाते हैं |
जटा लटा धारी  केते ताक़ते पराई नारी,
                              जुवारी  बेकार  लोग  उनके पास जाते हैं |
सत संगत से दूर  असंगत में चूर-चूर,
                                 लगे माल हाथ कहीं यें ही वह चाहते हैं | 
कहता शिवदीन मुख कारो घर गोपाल हूँ के, 
                                  कपटी  असंत  दुष्ट  मोजां  उड़ाते  हैं |    

Leave a Reply