बैठे जो शाम से तेरे दर पर सहर हुई

बैठे जो शाम से तेरे दर पर सहर हुई ।
अफ़सोस अय कमर कि न मुतलक ख़बर हुई ।।

Leave a Reply