नींद आती ही नहीं धड़के की इक आवाज़ से

नींद आती ही नहीं धड़के की इक आवाज़ से ।
तंग आया हूँ मैं इस पुरसोज दिल के साज़ से ।।

Leave a Reply