सोन-मछली

हम निहारते रूप
काँच के पीछे
हाँप रही है, मछली ।

रूप तृषा भी
(और काँच के पीछे)
हे जिजीविषा ।

Leave a Reply