हौँ तो आजु घर से निकरि कर दोहनी लै

हौँ तो आजु घर से निकरि कर दोहनी लै ,
खरक गई ती जानि औसर दुहारी को ।
दूरि रह्यो गेह उनै आयो अति मेह ,
महा सोच है रसाल नई चूनरी की सारी को ।
हा हा रँग राखि लीजै ढील जिन कीजै लाल ,
ऎसो नाहिँ पैहो हाय औसर अवारी को ।
आनि कै छिपैये सुनि कुँअर कन्हैया दैया ,
कहा घटि जैहै कारी कामरी तिहारी को ।

Leave a Reply