जूता चप्पल और मकान

जूताः- यूं ही पहनकर निकलता हूं, करने महमान बाजी  पर धूल चिपक जाती  बहुत सारी  कपडे से साफ कर लेता हूं धीरे धीरे !

चप्पलः-यूं ही डालकर पॉव पहन लेता हूं फिर घूमता हूं, सडक पर मोज उडाता!

मकानः- तेरे लिये करता मेहनत दिन रात पशीना बहाता हूं अनमोल भुलाकर बीवी बच्चो को!

Leave a Reply