ललित लवँग लतिका सी है लचीली बाल

ललित लवँग लतिका सी है लचीली बाल ,
ऎसी जानि नेकु सक चित्त मैँ न दीजिये ।
भौँरन के भार सोँ नमत मँजरी न नेक ,
याही को उदाहरन मन गुनि लीजिये ।
जकरि भुजान सोँ इकन्त परयँक पर ,
लपटि अनँद सोँ अमँद रस पीजिये ।
मानि मेरी सीख तजौ मन को सँदेह ऎसो ,
नेनू सी नरम नारि कैसे रति कीजिये ।

Leave a Reply