नादान परिंदे! घर आजा??

कई दिन तक परिंदा अपने घर पर क्यों नहीं लौटा?

कि उसने सोच रक्खा था,उम्मीदें सबकी उससे हैं,

उसे मालूम था माँ-बाप उसके ही भरोसे हैं,

बहन के हाथं में मेंहदी,उसे आकर रचानी है,

हा,मँझले भाई की किस्मत को आगे भी बढा‌ना है,

जरूरत सब की दिन पर दिन बढ़ी जाती है बेटी-सी,

और इसकी ये कमाई? एक दिन का खर्च भी मुश्किल,

कई ऐसी थीं जंजीरें,जो सारे घर को जकड़े थीं,

उन्हीं को काटने की कोशिशों में घर नहीं लौटा…

परिंदा घरनहीं लौटा..(मोहित कुमार)

kai din tak parinda apne ghar par kyon nahin lauTa..
ki usne soch rakha tha ummiden sabki us se hain,
use maloom tha maan baap uske hi bharose hain,
bahan ke hathon me menhadi use aakar sajaani hai,
haan, manjhle bhai ki kismat ko aage bhi badhana hai,
jarurat sabki din par din badhi jaati hian beti-si..
aur iski ye kamaai??ek din ka kharch bhee mushkil..
kai aisi thin janjeeren jo saare ghar ko jakde thin,
unhi ko kaaTne ki koshishon me ghar nahin lauTa…
parinda ghar nahin lauTa….(Mohit Kumar)

Leave a Reply