मदन को मद मतवारी झूमि झाँकै

मदन को मद मतवारी झूमि झाँकै ,
सदन थिरात न मिराति रति रँगना ।
प्रीतम के रूप को मया सी अचवत तन ,
प्यासी ये रहति जौ लहत सुख सँगना ।
प्रेमरस बस प्यावै प्यार सोँ अधर रस ,
लागत नखच्छत रुचिर भूष भँगना ।
अँग अँग उमगि अनँग उपजावति ,
अलिँगन अघात न कलिँग की कुलँगना।

Leave a Reply