बड़े व्यभिचारी कुलकानि तजि डारी

ड़े व्यभिचारी कुलकानि तजि डारी ,
निज आतमा बिसारी अघ ओघ के निकेत हैँ ।
जटा सीस धारैँ मीठे बचन उचारैँ न्यारे ,
न्यारे पँथ पारैँ सुभ पँथ पीठ देत हैँ ।
गावत कहानी बेद भेद की न मानी ,
ऎसे उमर कहानी होत आए बार सेत हैँ ।
कवि ठकुराई मेँ बिराग की बड़ाई करैँ ,
माई माई करिके लुगाई करि लेत हैँ ।

Leave a Reply