फूँकि आई सबै बन को

फूँकि आई सबै बन को ,
हिय फूँकि कै मैन की आग जगावति ।
तू तौ रसातल बेधि गई उर ,
बेधति और दया नहिँ लावति ।
आप गई अरु औरन खोवति ,
सौति के काम भली बिधि आवति ।
ज्योँ बड़े बँस तेँ छूटी है ,
त्योँ बड़े बँस तेँ औरन हू को छुड़ावति ।

Leave a Reply