ज्ञान घटे ठग चोर की सँगति मान घटे पर गेह के जाये

ञान घटे ठग चोर की सँगति मान घटे पर गेह के जाये ।
पाप घटे कछु पुन्य किये अरु रोग घटे कछु औषध खाये ।
प्रीति घटे कछु माँगन तें अरु नीर घटे रितु ग्रीषम आये ।
नारि प्रसंग ते जोर घटे जम त्रास घटे हरि के गुन गाये ।

Leave a Reply