नवजात बच्चे

नवजात बच्चे लाएंगे अपने साथ बहुत से जन्मदिन

उनकी अधखुली गुलाबी मुट्ठियों में बन्द होंगे दुनिया भर के दृश्य
खाइयाँ पहाड़ और समुद्र
दीप्त होंगे उनके फूल जैसे चेहरे सन्तोष और निश्चितता से
छिपी होंगी उनके कोमल पाँवों में अंतरिक्ष की दूरियाँ
वे जिसे अदम्य आत्मविश्वास के साथ कई बार नापेंगे अकेले
अपने नन्हे हाथों से वे समुद्र उलीचने का संकल्प लिखेंगे

दुर्गम पहाड़ों को तोड़ कर और खाइयों को पाट कर
वे हमारे लिए बनाऐंगे आलीशान मकान
हमारी सवेरे की सैर को खुशनुमा बनाने के लिए
वे वहाँ उगाएंगे दिलक़श बग़ीचे
जहाँ दिनों तक न मुरझाने वाले फूल होंगे

नवजात बच्चे जब आएंगे
लाऐंगे पूरे परिवार के लिए
जीवन-भर की गहमा-गहमी शोर-शराबा समृद्धि और व्यस्तताएँ

वे जब वयस्क होंगे और हमारी ही तरह पिता बनेंगे
अपने बच्चों के बारे में वे भी कुछ इसी तरह सोचा करेंगे

 

Leave a Reply