कोई फैसला तो किया करो….

अच्छा हो कि बुरा हो, कोई फैसला तो किया करो.

एक ओहदा अता हुआ  है  तुम्हें, जरा इसका तो हक अदा करो…

तुम जिस जगह पहुँच गये, हो वहाँ के नही हकदार तुम.

पर क्या कुछ ऐसा भी है, कि हो नही खुद्दार तुम..

यूं आँख मूंदे रात कब तक, अब तो कोई सुबह करो…

एक ओहदा अता हुआ  है  तुम्हें, जरा इसका तो हक अदा करो…

कोई चुप कहे तो चुप रहे, कहे बोल तो तुम बोलते हो.

कुछ तो तुम्हें भी अक्ल होगी, कुछ तो तुम भी सोचते हो..

कुछ कर नहीं सकते हो तो, कम से कम दुआ करो…

एक ओहदा अता हुआ  है तुम्हें, जरा इसका तो हक अदा करो…

इस देश के तुम बन रहे, क्यों इक नए कलंक हो.

अब तुम खुद ही फैसला करो, तुम राजा हो या रंक हो..

कि अब छोड अपनी गद्दी को, इस देश का भला करो…

एक ओहदा अता हुआ  है  तुम्हें, जरा इसका तो हक अदा करो…

Leave a Reply