और कितना चलूँ…

                                                                                                              और कितना चलूँ…

तमन्ना- ए- मंज़िल  कहाँ  तक  चलूँ,

उम्र भर  तो चला, और कितना चलूँ।

डगमगाते  कदम  कब्र  तक  तो चलो,

एक   पल  को  जहाँ   मैं ठहर तो चलूँ।

                                                                                                                                                  …आनन्द विश्वास 

Leave a Reply