कांच के जज्बात

ग़ज़ल 

कांच के जज्बात, हिम्मत कांच की
यार ये कैसी है इज्जत कांच की ?
.
पालते हैं खोखले आदर्श हम-
माँगते हैं लोग मन्नत कांच की
.
पत्थरों के शहर में महफूज़ है-
देखिये अपनी भी किस्मत कांच की
.
चुभ गया आँखों में मंजर कांच का-
दब गयी पाने की हसरत कांच की
.
सोचिये अगली सदी को देंगे क्या
रंगीनियाँ   या कोई जन्नत कांच की ?

रवीन्द्र प्रभात 

Leave a Reply