कज्जल के कूट पर दीप शिखा सोती है कि

कज्जल के कूट पर दीप शिखा सोती है कि ,
श्याम घन मँडल मे दामिनी की धारा है ।
भामिनी के अँक मे कलाधर की कोर है कि ,
राहु के कबँध पै कराल केतु तारा है ।
शँकर कसौटी पर कँचन की लीक है कि ,
तेज ने तिमिर के हिये मे तीर मारा है ।
काली पाटियोँ के बीच मोहनी की माँग है कि ,
ढ़ाल पर खाँड़ा कामदेव का दुधारा है ।

Leave a Reply