मेरे आस-पास

टूटी हुई बाँसुरी
सूखे होंठों पर धरी है
बरसों से

टूटा हुआ गुलदान
पड़ा है मेरे सामने
फूलों की बिखरी पंखुड़ियाँ भी
नहीं चुनी जा सकतीं
टूटी हुई व्हील चेयर पर बैठकर
बल्कि
और बढ़ती जा रही है
टूटे हुए पाँव की पीड़ा।

मेरे आसपास
कुछ भी वैसा नहीं
जैसा होना चाहिए !

Leave a Reply