मुझे हैरानी है

अगर
स्वस्थ रहने का मतलब
वातावरण का सारा ऑक्सीजन
अपने फेफडे में भर कर अमर हो जाना है
तो मुझे नही चाहिए
यह ज़िन्दगी

अगर
अपने खेत सींचने का मतलब
औरों को मजबूर करना है
किसी बंजर मरुभूमि में रेत फाँकने के लिए
तो मैं तरजीह दूंगा
भूखा मर जाने को

अगर
शांतिप्रिय होने का मतलब
दूसरों को आतंकित करके
चैन की नींद सोना है
तो मुझे घृणा है
ऐसी शांति से

अगर राष्ट्रप्रेम
एक सीमा में उगे पेड़ की
दूसरी तरफ़ पड़ने वाली छाँव से
नफ़रत करने का नाम है
तो मुझे हैरानी है।

मुझे हैरानी है
कि ब्रह्मांड में चक्कर काटते हुए
असंख्य तारों और ग्रहों से टकराकर
नष्ट क्यों नहीं हो गई यह पृथ्वी
अब तक ।

Leave a Reply