दीपक राग

एक टूटी हुई आस की
रुक-रुक के चलती नब्ज़ पर
उंगलियाँ जला रहा हूं मैं
रात के अनंत अंधियारे में।

Leave a Reply