किन सज़ाओं तक मुझे मेरी ख़ता ले जाएगी

किन सज़ाओं तक मुझे मेरी ख़ता ले जाएगी
और कितनी दूर तक मुझको वफ़ा ले जाएगी

मुझको अपने रास्ते का इल्म[1] है अच्छी तरह
क्यों कहीं मुझको कोई पागल हवा ले जाएगी

मैं तो अपनी कोशिशों से जाऊँगा जंगल के पार
आपको उस पार क्या कोई दुआ ले जाएगी?

दूर तक सहराओं[2] में पानी की ख़ातिर [3]दोस्तो
मुझको मेरी प्यास की क़ातिल अदा ले जाएगी

ज़िंदगी जब-जब भी आएगी मेरी दहलीज़ पे
माँग कर मुझसे वो थोड़ा हौसला ले जाएगी

‘नूर’ इस अल्हड़ पवन को इस तरह से साध तू
दूर तक दुनिया में वो तेरा कहा ले जाएगी

शब्दार्थ:

  1. ↑ ज्ञान
  2. ↑ रेगिस्तानों
  3. ↑ के लिए

Leave a Reply