अँबुज कँज से सोहत हैँ अरु

अँबुज कँज से सोहत हैँ अरु ,
अरु कँचन कुँभ बने छए हैँ ।
बारे खरे गदकोर महावर ,
पारे लसे अरु मैन छए हैँ ।
ऊँचे उजागर नागर हैँ अरु ,
पीय के चित्त के मित्त भए हैँ ।
हैँ तो नये कुच ये सजनी पर ,
जौँ लौँ नए नहीँ तौँ लौँ नए हैँ ।

Leave a Reply