तैसी चख चाहन चलन उतसाहन सोँ

तैसी चख चाहन चलन उतसाहन सोँ ,
तैसो बिवि बाहन बिराजत बिजैठो है ।
तैसो भृगटी को ठाट तैसोई दिये लिलाट
तैसोई बिलोकिबे को पी को प्रान पैठो है ।
कहै कवि नीलकँठ तैसी तरुनाई तामे ,
यौवन नृपति सो फिरत ऎँठो ग्वैंठो है ।
छूटी लट भाल पर सोहै गोरे गाल पर ,
मानों रूप माल पर ब्याल ऎँठि बैठो है ।

Leave a Reply