संजीवनी

मैं मुक्त नहीं हुआ
ओ मेरे पिता !
मैंने दी तुम्हें अग्नि
और राख हुए तुम
तुम्हें गंगा-प्रवाहित कर के भी
मैं मुक्त नहीं हुआ
ओ मेरे पिता !

नहीं रखी राख
नहीं रखी हड्डियां
नहीं बैठा रहा शमशान में
संजीवनी ?
गंगा-प्रवाह संभावनाओं का अंत नहीं है !

मेरे भीतर भी
बहती है गंगा एक
और तुम्हारे भी
मैंने तुमको पाया
मेरे ही भीतर
मैं मुक्त नहीं हुआ
मैंने कभी चाही नहीं
मेरे मुक्ति
मैं मुक्त नहीं हुआ
ओ मेरे पिता !

Leave a Reply