शायद लिखें पिता

मैं कोटगेट से
अनेक बार निकला
पिता भी निकले थे
पर नहीं लिखी कोई कविता
कोटगेट की ।

कविता में सिर्फ
कोटगेट का नाम आने से
नहीं होती कविता कोटगेट की ।

किसी कवि से
कोटगेट ने आज तक नहीं कहा
कि लिखो कविता ।

पिता के न रहने पर
मैंने अलग करते समय पत्तलें
अलग की पत्तल कोटगेट की ।

अब बतियाएंगे पिता
बीकानेर के चारों दरवाजों से
शायद लिखें पिता
ब्राह्मण को दिए कागज-कलम से
कविता- कोटगेट की ।

Leave a Reply